पंडित की पदवी

पंडित की पदवी

एक मूर्ख ब्राह्मण को पंडित कहलवाने की बड़ी प्रबल इच्छा थी। बेचारा सतत प्रयास करने पर भी जब कामयाब न हुआ तो उसे बीरबल से मिलकर कार्य-साधन करने की तरकीब सूझी। उसने तुरंत बीरबल के घर की और प्रस्थान किया। बीरबल का घर उसके घर से बहुत दूर था। रास्ते का थका हारा, जब वह  बीरबल के घर पहुंचा तो लोगो से पूछने पर पता चला कि बीरबल तो अभी दरबार से नहीं आया है। “मरता क्या न करता ” , वह तो पंडित कहलाने की धुन में चूर हो रहा था, तत्काल वहाँ से मुड़ा और दरबार की ओर निकल गया ।

ब्राह्मण बहुत तेजी से दरबार की ओर बड़ रहा था । अचानक, रास्ते में उसकी भेंट बीरबल से हो गयी । वह बड़ी विनम्रतापूर्वक अपने दोनों हाथ जोड़कर बीरबल से बोला-“बुद्धिवर प्रधान जी !मैं निरक्षर भट्टाचार्य हूँ, यानि मुझे पढ़ना-लिखना कुछ भी नहीं आता।  मेरी पंडित बनने की बड़ी अभिलाषा है । मैंने बहुत प्रयास किये परन्तु मेरी कामना सफल न हो सकी। अब लाचार होकर आपकी शरण में आया हूँ, कृपया मुझे इसका उपाय बताकर मेरी मनोकामना पूर्ण कीजिये । ”

बीरबल ने कहा-“इसमें घबड़ाने की कोई बात नहीं है, इसका उपाय तो बड़ा ही सरल और अपनाने में भी सुलभ है । जो तुम्हे पंडित कहलाने की इतनी आकांक्षा है तो किसी चौराहे पर जाकर खड़े हो जाओ, जब तुम्हे कोई पंडित कहकर पुकारे तो उसे मारने दौड़ना, बस फिर देखोगे कि तुम जहाँ-जहाँ जाओगे, सर्वत्र लोग तुम्हें पंडित ही पुकारते फिरेंगे।”

मूर्ख ब्राह्मण बड़ा संतुष्ट हुआ । तुरंत आगे बढ़कर, वह एक चौराहे पर जाकर खड़ा हो गया । इधर बीरबल भी जा पहुंचा और उसने वहाँ खेलते हुए छोटे-छोटे लड़कों के कान में कुछ कहकर समझाया। फिर क्या था, लड़कों द्वारा पंडित कहने पर वह मूर्ख ब्राह्मण उन्हें मारने को दौड़ने लगा । अब तो चारों ओर से, बड़े लोग भी पंडित-पंडित पुकारने लगे और बीरबल द्वारा सुझाई गयी युक्ति-अनुसार ब्राह्मण सबको मारने क़े लिए दौड़ने लगा ।

ज्यों-ज्यों वह लोगों पर चिढ़ता, त्यों-त्यों लोग और भी चिढ़ाते जाते थे । देखा-देखी थोड़े समय में ही वह मूर्ख सर्वत्र पंडित क़े नाम से विख्यात हो गया । जब उसका मतलब हल हो गया तो बीरबल की अनुमति से उसने क्रमशः चिढ़ना बंद कर दिया, परन्तु लोगों ने चिढ़ाना नहीं छोड़ा।


हमारी ऑडियो बुक का आनंद जरूर लें:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.