शरारती बन्दर और लोहे की कील

monkey and the wedge

एक बार एक नगर से कुछ दूरी पर एक व्यापारी के बगीचे में एक भव्य मंदिर का निर्माण किया जा रहा था । मंदिर को भव्य बनाने के लिए हर तरह की लकड़ियां और पत्थर वहां मंगाए गए थे । इस काम में काफी मजदूर और बढ़ई लगे हुए थे । लकड़ी की घिसाई और कटाई का काम प्रगति पर था । सभी मजदूर दोपहर का खाना खाने शहर जाते थे और कुछ समय के बाद ही वापिस लौटते थे, यह प्रतिदिन का नियम था । ऐसे ही एक दिन एक बढ़ई, एक लकड़ी को चीयर रहा था, लेकिन खाने का समय होने की वजह से वह उसे पूरा न चीर पाया और लकड़ी के दोनों अनचिरे भागों के बीच लोहे की एक बड़ी कील फसकर अपने मित्रों के साथ भोजन करने के लिए चला गया ।

तभी बंदरों का एक समूह वहां आया और किसी भी मजदूर को वह उपस्थित न देखकर सभी बन्दर लकड़ी काटने के उपकरणों को छूने लगे और उनसे खेलने लगे । तब बन्दर समूह के कप्तान ने सब बंदरो को आगाह किया कि इस प्रकार दूसरों के काम में दखल डालना सही नहीं है, सब बन्दर तो वापिस पेड़ पर चले गए , लेकिन एक शरारती बन्दर वहीं रह गया और एक आरी लेकर खेलने लगा । आरी से उसने एक लकड़ी काटना चालू किया, लेकिन किर्र किर्र की आवाज आने पर उसने लकड़ी काटना बंद कर दिया, क्यूंकि बंदरो की भाषा में किर्र किर्र एक गाली होती है।

फिर उसकी नजर उस अनचिरी लकड़ी पर गयी, जिसके बीचोबीच लोहे की बड़ी कील फांसी हुई थी । उसके मन में विचार आया की क्यों न इस कील को निकल दिया जाय । उसने कील निकालने का प्रायः किया तो वह कील थोड़ा हिलने लग गयी, जिससे बन्दर अपनी ताकत पर प्रसन्न हुआ और फिर जोर जोर से कील को हिलाने लगा, कील भी थोड़ा थोड़ा ऊपर उठने लगी।

लेकिन इस सारी प्रक्रिया में बन्दर की पूँछ उन दो अनचिरे भागों के बीच आ चुकी थी, जिसका बन्दर को भान भी न था। बन्दर के फिर से प्रयास करने पर वह कील बाहर  निकल गयी और बन्दर की पूँछ लकड़ी के दोनों भागों के बीच फस गयी ।  पूँछ फसने पर बन्दर को बहुत दर्द हुआ और वह चिल्लाने लगा, बन्दर की चिल्लाहट की आवाज सुनकर दूसरे बन्दर भी वहां पहुंच गए और पूँछ छुड़ाने का प्रयत्न करने लगे, लेकिन सारे प्रयास व्यर्थ थे ।  उसी समय मजदूरों के वापिस आने की आवाज सुनकर बन्दर को बड़े दर्द के साथ अपनी टूटी पूँछ लेकर भागना पड़ा ।

कहानी का सार:

कहानी का सार यह है कि दूसरे व्यक्ति के काम में दखलंदाजी नहीं करनी चाहिए ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.