मुल्ला की पगड़ी

अकबर बादशाह के दरबारियों में कई मुल्ले भी शरीक थे । उन्हीं में से एक मुल्ला जी का नाम दुआजा था । वह बीरबल के सामने तो मित्रता का व्यव्हार…

अधर-महल

एक दिन दरबार क़े कामकाज से फुर्सत होकर बादशाह अकबर बीरबल क़े साथ गप्पें मार रहा था । उसी दिन उसको एक अधर-महल बनवाने की इच्छा जाग्रत हुई। इस अभिप्राय…

पंडित की पदवी

एक मूर्ख ब्राह्मण को पंडित कहलवाने की बड़ी प्रबल इच्छा थी। बेचारा सतत प्रयास करने पर भी जब कामयाब न हुआ तो उसे बीरबल से मिलकर कार्य-साधन करने की तरकीब…

बादशाह का तोता

एक फ़कीर बड़ा तोतेबाज था। वह तोता बाजार से खरीद कर लाता और उसे भली प्रकार शिक्षित करके अमीरों को बेचकर अपना जीवन यापन करता था । एक दिन उसने…

सबसे बड़ा हथियार

एक दिन बादशाह अकबर ने बीरबल की चतुरता की परीक्षा लेने की सोची और एक पागल मदमत्त हाथी को बाजार में छुड़वा दिया। बीरबल सड़क पर अकेले घूम रहे थे,…